मोती आव आव :एक संस्मरण — कुछ अनकही

भाग -एक मेरे गांव के पड़ोस में चल रही रासलीला समाप्त होने को थी तभी लाउडस्पीकर पर ‘मोती आव आव ‘की आवाज गूंजने लगी . सभी लोग आश्चर्यचकित थे. दरअसल यह उदघोषणा मोती नाम के उस श्वान के लिए की जा रही थी जो आया तो था मेरे बड़े चाचा जी के साथ लेकिन भीड़ […]

via मोती आव आव :एक संस्मरण — कुछ अनकही

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s